china became second country of world to hoists its flag at moon surface | चीन ने स्पेसक्राफ्ट की मदद से चांद पर झंडा फहराया, 50 साल पहले अमेरिका ने हासिल की थी यह उपलब्धि

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीजिंग2 महीने पहले

चांद की सतह पर लहराता चीन का झंडा। यह फोटो चीन के नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने जारी की है।

चीन ने चांद की सतह पर अपना झंडा फहरा दिया है। ऐसा करने वाला चीन दुनिया का दूसरा देश बन गया। चीन ने अपने अनमैंड स्पेसक्राफ्ट ‘Chang’e-5’ के जरिए यह कारनामा कर दिखाया। चीन के नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने बताया कि स्पेसक्राफ्ट ने चांद की सतह पर फहराए झंडे की फोटो भी ली। यह झंडा 2 मीटर चौड़ा और 90 सेमी लंबा है।

अब तक अमेरिका ही दुनिया में ऐसा देश था, जिसने चांद की सतह पर झंडा फहराया था। अमेरिका ने 50 साल पहले यह उपलब्धि हासिल की थी। चीन ने अब जाकर यह सफलता पाई है। चीन का अनमैंड स्पेसक्राफ्ट 1 दिसंबर को चांद की सतह पर लैंड हुआ था। इसके बाद स्पेसक्राफ्ट ने चांद की सतह से नमूने जुटाने से पहले यह झंडा फहराया।

2 किलोग्राम सैंपल लेकर आएगा

चीन का स्पेसक्राफ्ट ओशियस प्रोसेलरम या ‘ओशन ऑफ स्टॉर्म्स’ कहे जाने वाले चांद के विशाल लावा मैदान से दो किलोग्राम सैंपल लाने के मिशन पर है। अब तक चांद के इस हिस्से में पहुंचने की कोशिश नहीं हुई थी। पिछले 40 सालों में किसी देश का अंतरिक्ष से नमूने लाने की यह पहली कोशिश है।

मिशन सफल होने पर चीन चांद से नमूने लाने वाला दुनिया का तीसरा देश बन जाएगा। इससे पहले अमेरिका और सोवियत संघ चांद के नमूने लाने के लिए अंतरिक्ष यात्री भेज चुके हैं।

कैसा है ‘Chang’e-5’ और काम कैसे करेगा

यह ऑर्बिटर, लैंडर, एसेंडर और रिटर्नर से मिलकर बना है। चीन का मुख्‍य अंतरिक्ष यान चंद्रमा की सतह के नमूने को एक कैप्सूल में रखेगा और उसे फिर पृथ्वी के लिए रवाना कर देगा। इस पूरे मिशन में कम से कम 23 दिन लग सकते हैं। यान 187 फुट लम्बा और 870 टन वजनी है। चीन ने 24 नवंबर को अपना ‘Chang’e-5’ मिशन शुरू किया था। इसका नाम चंद्रमा की पौराणिक चीनी देवी के नाम पर रखा गया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: