Elon Musk SpaceX Moon Mars Program Update; Spacex Starship Rocket Explodes On Landing After Test Launch | स्टारशिप रॉकेट विस्फोट के बाद आग के गोले में बदला, लैडिंग के दौरान रफ्तार ज्यादा बढ़ने से फटा यह रॉकेट

  • Hindi News
  • International
  • Elon Musk SpaceX Moon Mars Program Update; Spacex Starship Rocket Explodes On Landing After Test Launch

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटनएक महीने पहले

  • कॉपी लिंक
स्पेसएक्स का स्टारशिप रॉकेट बुधवार को लॉन्चिंग के कुछ ही देर बाद कुछ इस तरह आग से घिरा नजर आया। - Dainik Bhaskar

स्पेसएक्स का स्टारशिप रॉकेट बुधवार को लॉन्चिंग के कुछ ही देर बाद कुछ इस तरह आग से घिरा नजर आया।

अमेरिकी स्पेस कंपनी स्पेसएक्स की चांद और मंगल मिशन को बड़ा झटका लगा है। कंपनी का स्टारशिप रॉकेट में बुधवार को टेस्ट लॉन्च के बाद विस्फोट हो गया। लॉन्चिंग के बाद लैंडिंग की कोशिश के दौरान इसकी रफ्तार बढ़ गई। इसे काबू करने की कोशिश की गई लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह जमीन से टकराने के बाद आग के गोले में बदल गया। इस रॉकेट की लंबाई किसी 16 मंजिल की इमारत जितनी थी। इसे टेक्सास स्थित स्पेसएक्स की रॉकेट फैसिलिटी से लॉन्च किया गया था।

स्पेसएक्स स्टारशिप रॉकेट को अपने अगले स्पेस मिशन्स को ध्यान में रखकर तैयार कर रही थी। इसे एक हेवी लिफ्ट लॉन्च व्हीकल के तौर पर तैयार किया जा रहा था। इसकी मदद से अगले अंतरिक्ष मिशन में इंसानों और करीब 100 टन कार्गो चांद और मंगल तक पहुंचाने की योजना थी।

मंगलवार को टाली गई थी स्टारशिप की लॉन्चिंग

स्टारशिप रॉकेट की टेस्टिंग मंगलवार को लिफ्ट-ऑफ से सिर्फ एक सेकंड पहले रोक दी गई थी। बुधवार को इस सेल्फ गाइडेड रॉकेट को लॉन्चिंग के बाद 41 हजार की ऊंचाई तक जाना था। इसके बाद इसे तीन रैप्टर इंजन की मदद से लैंडिंग भी करनी थी। हालांकि, जमीन पर वापस लौटने से पहले ही यह फट गया। स्पेसएक्स ने स्पष्ट तौर पर नहीं बताया है कि स्टारशिप ब्लास्ट होने से पहले तय ऊंचाई तक पहुंचा था या नहीं।

टेस्ट के लिए जरूरी डाटा जुटा लिए गए

एलन मस्क ने विस्फोट के बाद भी टेस्ट करने वाली टीम को बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया- हमने सभी जरूरी डाटा जुटा लिया है। रॉकेट के ऊपर बढ़ने के बाद इसके सभी इंजन शुरू हो गए थे। यह सही ढंग से आगे बढ़ रहा था। वापस लौटते समय फ्यूल हेडर का टैंक प्रेशर लो था। इससे जमीन की ओर लौटते समय इसकी रफ्तार तेज हो गई। रॉकेट की रफ्तार कम करने के लिए लैडिंग से पहले इसके इंजन को दोबारा शुरू किया गया। हालांकि, ऐसा नहीं हो पाया और यह तेजी से गिरते हुए जमीन से टकरा गया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: