ITBP Dog K 9 Squad; Naming Ceremony of 16 ITBP puppies in Haryana Panchkula | बेल्जियम के कुत्तों को अब गलवान-सुल्तान जैसे नामों से पुकारेंगे जवान; ये एक पिता और दो मांओं की संतान


  • Hindi News
  • National
  • ITBP Dog K 9 Squad; Naming Ceremony Of 16 ITBP Puppies In Haryana Panchkula

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक महीने पहले

  • कॉपी लिंक

ITBP के कॉम्बैट यूनिट K9s में बुधवार को 16 नए डॉग मेंबर्स शामिल किए गए। यह सभी बेल्जियन प्रजाति के डॉग्स हैं। पहली बार ऐसा हुआ है कि इन डॉग्स को भारतीय और लद्दाख क्षेत्र के प्रचलित नाम दिए हैं। किसी डॉग का नाम गलवान घाटी की याद दिलाते हुए गलवान रखा गया है तो सुल्तान और श्योक भी इस यूनिट में शामिल हैं। इसके पहले इनके नाम अंग्रेजी (जैसे एलिजाबेथ या सीजर) दिए जाते थे। लद्दाख के मुश्किल हालात में इस K9 यूनिट की जिम्मेदारी अहम होगी।

अमेरिका ने 2011 में जब ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मार गिराने के लिए कमांडो ऑपरेशन किया था, तब इन डॉग्स ने इस आतंकी सरगना को खोजने में बड़ा रोल प्ले किया था। इसलिए बेल्जियन डॉग्स की इस ब्रीड को ‘ओसामा हंटर्स’ भी कहा जाता है।

नामकरण समारोह
ITBP के डीआईजी एस नटराजन ने कहा- हमने इस स्क्वॉड के मेंबर्स का नाम उन स्थानों के नाम पर रखा है, जहां ITBP की तैनाती है। यह उन लोगों के प्रति सम्मान भी है जो वहां तैनात हैं। यह सभी सितंबर में डॉग्स पंचकूला के भानु में ITBP के नेशनल सेंटर फॉर डॉग्स में पैदा हुए थे। यह पहली बार है जब इन्हे देश के नाम दिए गए हैं। इसके पहले कुत्तों के नाम विदेशी ही होते थे। जैसे एलिजाबेथ, सीजर या ओल्गा।

नामकरण समारोह के दौरान ITBP अफसर।

नामकरण समारोह के दौरान ITBP अफसर।

इस बार ये नाम दिए गए
डॉग्स के फादर का नाम गाला है। ये दो मांओं की संतान हैं। इनके नाम ओल्गा और ओलेशिया है। डॉग्स के नाम हैं- ससोमा, दौलत, श्योक, चेन्चिनो, गलवान, अनिला, चुंग थुंग, मुखपरी, युलु, सुल्तान चुक्सु, साशेर, सिरिजल, चार्डिंग, इमिस, चिप चाप और रेजांग। इनमें से ज्यादातर नाम वे हैं जहां ITBP की तैनाती है। अब इस बल के जवान गर्व से इनके नाम ले सकेंगे, क्योंकि यह नाम उनकी रगों में बहते रहे हैं।
ITBP का कहना है कि अगले डॉग बैच के सदस्यों का नामकरण भी इसी तरह किया जाएगा। भारत और चीन के बीच 3488 किलोमीटर लंबी सीमा है। यह काराकोरम से जेचाप तक है।

डॉग्स के फादर का नाम गाला है। ये दो मांओं की संतान हैं। मांओं का नाम ओल्गा और ओलेशिया हैं।

डॉग्स के फादर का नाम गाला है। ये दो मांओं की संतान हैं। मांओं का नाम ओल्गा और ओलेशिया हैं।

दूसरे बलों से डिमांड
अब दूसरे केंद्रीय सशस्त्र बल (CAPFs) भी ITBP इन डॉग्स की मांग कर रहे हैं। उनका मानना है कि इनकी मदद से वे अपनी सेवाओं को ज्यादा बेहतर बना सकेंगे। ITBP ने करीब 10 साल पहले इस बल की पहली बार तैनाती की थी। इनकी ब्रीडिंग के लिए तकनीक की मदद ली जा रही है। होम मिनिस्ट्री के निर्देश पर इन्हें दूसरे बलों को भी दिया जाएगा।
ITBP में करीब 90 हजार पर्सनल हैं। इसकी स्थापना 1962 में चीन से जंग के बाद की गई थी। यह बल ऊंचाई पर जंग में माहिर है। एंटी नक्सल ऑपरेशन्स में इसकी मदद ली जाती रही है।

इन डॉग्स का जन्म सितंबर-अक्टूबर में पंचकूला में ITBP के नेशनल सेंटर फॉर डॉग्स में हुआ था। यह फोटो इनके जन्म के बाद की है। अब सभी की उम्र करीब 4 महीने हो चुकी है।

इन डॉग्स का जन्म सितंबर-अक्टूबर में पंचकूला में ITBP के नेशनल सेंटर फॉर डॉग्स में हुआ था। यह फोटो इनके जन्म के बाद की है। अब सभी की उम्र करीब 4 महीने हो चुकी है।





Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: