Admit card for matriculation examination, whose fee was not deposited, stopped till 14 | मैट्रिक परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी, जिनका शुल्क जमा नहीं उनका रोका, 14 तक की मोहलत दी

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना15 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
बिहार बोर्ड, (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

बिहार बोर्ड, (फाइल फोटो)

  • 14 तक बकाया फीस जमा करने के बाद ही जारी होगा प्रवेशपत्र

मैट्रिक परीक्षा 2021 का एडमिट कार्ड रविवार काे बिहार बाेर्ड ने जारी कर दिया। जिनकी रजिस्ट्रेशन या परीक्षा फीस बकाया है, उन विद्यार्थियों का एडमिट कार्ड जारी नहीं किया गया है। बोर्ड ने कहा है कि शुल्क जमा करने के लिए विद्यालय प्रधान को कई बार मौका दिया गया था, लेकिन इसके बावजूद कई का बकाया जमा नहीं हुआ।

इन स्कूलों को 14 जनवरी तक शुल्क जमा करने का मौका दिया गया है। अगर स्कूल इस दाैरान बकाया शुल्क जमा कर देते हैं ताे विद्यार्थियों का एडमिट कार्ड जारी कर दिया जाएगा। बकाया शुल्क जमा नहीं करने की स्थिति में उन्हें परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

बोर्ड ने अभिभावकों से भी कहा है कि अगर स्कूल में शुल्क जमा नहीं कर पाए हैं ताे जमा कर दें। उधर, बिहार बोर्ड ने जिस वेबसाइट पर एडमिट कार्ड जारी किया, वह वेबसाइट रविवार को दिनभर नहीं खुली। देर शाम करीब साढ़े छह बजे वेबसाइट खुली। छात्र-अभिभावक व स्कूलों के प्रधान दिनभर कोशिश करते रहे। हालांकि शाम में वेबसाइट खुलने से एडमिट कार्ड डाउनलोड शुरू हुआ।

अब नहीं होगा काेई भी संशोधन
बोर्ड ने स्कूलों को यह भी कहा है कि मैट्रिक परीक्षा के लिए डमी प्रवेशपत्र जारी किया गया था जिसमें त्रुटियों को दूर करने का मौका दिया गया था। उसके बाद फाइनल एडमिट कार्ड जारी किया गया है। इसी एडमिट कार्ड के आधार पर परीक्षार्थी इंटरनल असेसमेंट और प्रैक्टिकल परीक्षा तथा सैद्धांतिक परीक्षा में शामिल होंगे। किसी भी विद्यालय प्रधान द्वारा इस प्रवेश पत्र से अलग विषयों की परीक्षा नहीं ली जाएगी और न ही प्रवेश पत्र में काेई संशोधन किया जाएगा। यदि विद्यालय प्रधान द्वारा संशोधन किया जाता है तो कार्रवाई की जाएगी।

कॉपियों की जांच के लिए शिक्षकों को औपबंधिक नियुक्ति पत्र जारी

मैट्रिक परीक्षा 2021 की कॉपियों के मूल्यांकन के लिए प्रधान परीक्षकों एवं सह परीक्षकों का औपबंधिक नियुक्ति पत्र बिहार बोर्ड ने वेबसाइट पर जारी कर दिया है। इसके अलावा हार्ड कॉपी डीईओ कार्यालय में भेजी जा चुकी है। सभी विद्यालय प्रधानों को कहा गया है कि डीईओ कार्यालय में भेजे गए नियुक्ति पत्र को शिक्षकों को उपलब्ध कराएं।

इसके अलावा नियुक्ति पत्र शिक्षक स्वंय डाउनलोड कर सकते हैं। बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि वेबसाइट पर जारी या डीईओ कार्यालय भेजा गया नियुक्ति पत्र औपबंधिक है। यह मूल्यांकन के लिए मान्य नहीं है। मूल्यांकन कार्य के लिए केवल वही प्रधान परीक्षक, सह परीक्षक मूल्यांकन केंद्र पर योगदान देंगे, जिन्हें बोर्ड की ओर से बाद में मूल नियुक्ति पत्र जारी किया जाएगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: