Coronavirus Pandemic Country Wise Cases LIVE Update; USA Pakistan China Brazil Russia France Spain Recovery Rate Covid 19 Cases | बायोएनटेक को भरोसा, उसकी वैक्सीन वायरस के नए स्ट्रेन पर भी कारगर रहेगी; भूटान में 7 दिन का लॉकडाउन लगा

  • Hindi News
  • International
  • Coronavirus Pandemic Country Wise Cases LIVE Update; USA Pakistan China Brazil Russia France Spain Recovery Rate Covid 19 Cases

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटनएक महीने पहले

  • दुनिया में अब तक 7.80 करोड़ से ज्यादा संक्रमित, 17.15 लाख मौतें हो चुकीं, 5.48 करोड़ स्वस्थ
  • अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 1.84 करोड़ से ज्यादा, अब तक 3.27 लाख लोगों ने गंवाई जान

कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन सामने आने के बाद सभी की चिंता बढ़ गई है। बड़ा सवाल यह है कि अभी डेवलप की गईं वैक्सीन इस पर कारगर होंगी या नहीं। हालांकि, जर्मनी की फार्मा कंपनी बायोएनटेक ने भरोसा जताया है कि उसकी वैक्सीन ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन पर भी असर रहेगी। हालांकि, पुख्ता तौर पर कुछ भी कहने से पहले इस पर और स्टडी की जरूरत है।

वहीं, कोरोना के बढ़ते मामलों के वजह से भूटान में 7 दिन का नेशनवाइड लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है। इसकी शुरुआत 23 दिसंबर से होगी। प्रधानमंत्री ऑफिस ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी।

दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7.80 करोड़ से ज्यादा हो गया। 5 करोड़ 48 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 17 लाख 15 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

‘नया स्ट्रेन 90% पुराने वायरस जैसा

बायोएनटेक कंपनी के CEO उगर साहिन ने मंगलवार को कहा कि वायरस का नया वैरिएंट खासतौर से लंदन और साउथ ईस्ट इंग्लैंड में मिला है। इसने पूरी दुनिया को फिक्र में डाल दिया है, क्योंकि यह आसानी से फैलता है। अब तक ऐसा सामने नहीं आया है कि इस वैरिएंट की वजह से मरीज की स्थिति गंभीर हुई हो। इसके बावजूद यूरोप के ज्यादातर देशों ने नए वायरस की बात सामने आने के बाद ब्रिटेन की उड़ानों पर पाबंदी लगा दी है।

साहिन ने कहा कि ब्रिटेन में मिला स्ट्रेन पहले वाले वायरस से 99% मेल खाता है। इसलिए हमें भरोसा है कि हमारी वैक्सीन इस पर असरदार रहेगी। हालांकि, यह हम तभी जान पाएंगे जब एक्सपेरीमेंट पूरा जो जाएगा। इसके लिए नया डेटा मिलने में दो हफ्ते और लगेंगे। नए वैरिएंट के लिए वैक्सीन को एडजस्ट करने की जरूरत है। ऐसा लगभग 6 हफ्ते में हो सकता है।

पांच देशों ने साउथ अफ्रीका की उड़ानें रोकीं

कोरोना वायरस का नया वैरिएंट मिलने के बाद पांच देशों ने साउथ अफ्रीका के लिए उड़ानों पर रोक लगा दी है। न्यूज एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, इन देशों में जर्मनी, तुर्की, इजरायल, स्विट्जरलैंड और सऊदी अरब शामिल हैं। ज्यादातर देशों ने सोमवार से यह फैसला लागू कर दिया।।

जर्मनी ने सबसे पहले फ्लाइट सर्विस सस्पेंड करने का ऐलान किया। जर्मन सरकार की स्पोक्स पर्सन मार्टिना फिएत्ज ने कहा कि कोरोना वायरस के म्यूटेशन की खबरें आने के बाद सरकार ने ब्रिटेन और साउथ अफ्रीका के बीच एयर ट्रैवल पर पाबंदी लगा दी है। वहीं, इजरायल ने कहा कि उसके जो भी नागरिक साउथ अफ्रीका से लौट रहे हैं, उन्हें 30 दिन क्वारैंटाइन रहना जरूरी होगा।

भारत बायोटेक ने अमेरिकी कंपनी से हाथ मिलाया

हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक ने अमेरिकी फार्मा फर्म ओक्युजेन के साथ बाइंडिंग लेटर साइन किया है। इसके तहत कंपनी अमेरिकी बाजार के लिए अपनी वैक्सीन कोवैक्सिन डेवलप करेगी। करार के मुताबिक, ओक्युजेन के पास अमेरिका में वैक्सीन कैंडिडेट के राइट्स होंगे। भारत बायोटेक के साथ मिलकर वह वैक्सीन के क्लीनिकल डेवलपमेंट, रजिस्ट्रेशन और कमर्शलाइजेशन के लिए जिम्मेदार होंगी। कंपनियों ने एक बयान जारी कर कहा कि अगले कुछ हफ्तों में समझौते को अंतिम रूप दे दिया जाएगा।

नेपाल ने UK आने-जाने वाली सभी फ्लाइट पर रोक लगाई

ब्रिटेन में वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद कई देश वहां की फ्लाइट सर्विस पर रोक लगा रहे हैं। नेपाल ने ब्रिटेन आने-जाने वाली सभी फ्लाइट पर रोक लगा दी है। नेपाल की सिविल एविएशन अथॉरिटी के मुताबिक यह रोक कल आधी रात से लागू होगी।

वहीं, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ( WHO) का कहना है कि वायरस का नया स्ट्रेन बेकाबू नहीं है। WHO का यह बयान इसलिए मायने रखता है क्योंकि शनिवार को ब्रिटेन के हेल्थ सेक्रेटरी ने कहा था कि देश में हालात काबू से बाहर होते जा रहे हैं। WHO के इमरजेंसी चीफ माइकल रायन ने कहा- महामारी के दौर में इससे भी ज्यादा मामले और खतरनाक स्थिति देखी है। हमने उस पर भी काबू किया था। इसलिए, ब्रिटेन के हालात को बेकाबू न मानें। ये जरूर है कि इसे बहुत गंभीरता से लेना होगा।

भारतीय छात्र फंसे

ब्रिटेन पर लगे ट्रैवल बैन का असर भारतीय छात्रों पर भी हुआ। ब्रिटेन में क्रिसमस की छुट्टियां शुरू हो चुकी हैं। कई भारतीय देश लौटना चाहते हैं, लेकिन भारत सरकार के अचानक ट्रैवल बैन के फैसले से यह छात्र ब्रिटेन में ही फंस गए हैं। हर साल दिसंबर में अधिकतर भारतीय छात्र देश लौटते हैं। फिलहाल, दोनों देश टूरिस्ट वीजा जारी नहीं कर रहे हैं, लेकिन, पारिवारिक कारणों से जो लोग ब्रिटेन में पहले से हैं, उनके लिए भी देश लौटना अब मुश्किल हो गया है।

ब्रिटेन में नया एकेडमिक सेशन अगले महीने शुरू होगा। लंदन में इंडियन हाई कमीशन ने सोशल मीडिया पर भारत की सिविल एविएशन मिनिस्ट्री के अपडेट्स जारी किए हैं। भारत से भी कोई फ्लाइट फिलहाल ब्रिटेन नहीं जाएगी। वंदे भारत मिशन के तहत भी ब्रिटेन से सभी फ्लाइट ऑपरेशन रोक दिए गए हैं।

कैलिफोर्निया में दिक्कत बढ़ी
अमेरिका के कैलिफोर्निया में एडमिनिस्ट्रेशन के सामने बड़ी दिक्कत खड़ी हो गई है। राज्य के दक्षिणी हिस्से में आईसीयू ही नहीं, जनरल बेड भी कम पड़ गए हैं। अब इस परेशानी को दूर करने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की जा रही हैं। प्रशासन का कहना है कि क्रिसमस बिल्कुल करीब होने से हालात और बिगड़ सकते हैं। फिलहाल, मेकशिफ्ट हॉस्पिटल पर फोकस किया जा रहा है। अमेरिका के सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्यों में से कैलिफोर्निया एक है। यहां गवर्नर गेविन न्यूसन ने कहा- हम हालात पर नजर रख रहे हैं। उम्मीद है, सब कुछ जल्द काबू कर लिया जाएगा।

स्वीडन ने भी ब्रिटेन के ट्रैवलर्स पर बैन लगाया
मंगलवार सुबह स्वीडन ने एक बयान जारी कर बताया कि ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों पर उसने प्रतिबंध लगा दिया है। बयान में कहा गया है कि फ्रांस, इजराइल और जर्मनी के ब्रिटेन को लेकर उठाए गए कदमों का स्वीडिश सरकार समर्थन करती है। देश के नागरिकों की सुरक्षा के लिए हर जरूरी फैसला लिया जाएगा।

ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों पर बैन लगाने वाला स्वीडन 40वां देश है। भारत समेत कई देश इस बारे में पहले ही फैसला ले चुके हैं। ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन सामने आया है। खास बात यह है कि स्वीडन ने डेनमार्क के यात्रियों पर भी बैन लगाया है।

ब्रिटेन में कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन की वजह से अब तक 40 देशों ने यहां से आने वाली फ्लाइट्स पर रोक लगा दी है। स्वीडन भी इस लिस्ट में शामिल हो गया है।

ब्रिटेन में कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन की वजह से अब तक 40 देशों ने यहां से आने वाली फ्लाइट्स पर रोक लगा दी है। स्वीडन भी इस लिस्ट में शामिल हो गया है।

वेटिकन ने कहा- वैक्सीन जरूर लगवाएं
कैथोलिक ईसाइयों की आस्था के सबसे बड़े केंद्र वेटिकन सिटी ने सोमवार को वैक्सीन को लेकर चल रही आशंकाओं को दूर करने की कोशिश की। वेटिकन ने कहा- कोरोना वैक्सीन नैतिक तौर पर स्वीकार्य है। कैथोलिक ईसाइयों को इसे जरूर लगवाना चाहिए। वेटिकन का यह बयान इस लिहाज से बहुत अहम है क्योंकि कुछ अमेरिकी और यूरोपीय नेताओं ने पोप की इस संस्था और शहर से अपील में कहा था कि वे लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित करें। अमेरिका में खासतौर पर कुछ लोग वैक्सीन को लेकर आशंकित हैं।

कोरोना प्रभावित टॉप-10 देशों में हालात

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 18,494,339 327,172 10,807,246
भारत 10,094,801 146,414 9,656,883
ब्राजील 7,284,166 187,685 6,286,980
रूस 2,906,503 51,912 2,319,520
फ्रांस 2,479,151 60,900 184,464
यूके 2,110,314 68,307 N/A
तुर्की 2,043,704 18,351 1,834,705
इटली 1,977,370 69,842 1,301,573
स्पेन 1,830,110 49,260 N/A
अर्जेंटीना 1,547,138 41,997 1,374,401

(आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं)

Leave a Reply

%d bloggers like this: