Departmental proceedings closed on Dae, preparation of rake in Dae’s case | दाे पर विभागीय कार्यवाही बंद, दाे के मामले में राेक की तैयारी

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भागलपुर15 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • साढ़े तीन साल में घोटाले में फंसे एक भी कर्मचारी पर नहीं हुई है कार्रवाई, चार अभी बेउर जेल में
  • अब तक पूर्व नाजिर अमरेंद्र यादव और राकेश झा पर कार्यवाही हो चुकी है स्थगित

सृजन घाेटाला उजागर हुए साढ़े तीन साल हाेने काे हैं। इसमें जिला के विभिन्न विभागाें के आधा दर्जन कर्मचारी भी फंसे हुए हैं। चार कर्मी अभी पटना के बेउर जेल में बंद हैं। उनकाे शुरुआती दाैर में ही निलंबित कर दिया गया था। उन लाेगाें के खिलाफ विभागीय कार्यवाही शुरू की गई। लेकिन लंबे समय के बाद भी किसी पर कार्रवाई नहीं हाे सकी है।

दाे कर्मी के खिलाफ चल रही विभागीय कार्यवाही की फाइल भी बंद हाे गई है। दाे और कर्मियाें की फाइल भी बंद हाेने की संभावना है। इसकाे लेकर तैयारी चल रही है। एक मामले में सीबीआई से अपडेट रिपाेर्ट मांगी गई है ताे दूसरे में कार्यवाही काे स्थगित करने के लिए डीडीसी के मंतव्य का इंतजार हाे रहा है।

सबसे पहले पूर्व एडीएम के खिलाफ चल रही विभागीय कार्यवाही स्थगित की गई। उन्हाेंने कहा था कि वे अभी जेल में बंद हैं। ऐसे में अपना पक्ष नहीं रख पाएंगे। इसके बाद उनके खिलाफ चल रही विभागीय कार्यवाही की फाइल बंद हाे गई। जिला नजारत के पूर्व नाजिर अमरेंद्र यादव और जिला भू-अर्जन के पूर्व नाजिर राकेश झा ने भी पूर्व एडीएम पर लिए गए निर्णय काे आधार बनाकर कार्यवाही काे स्थगित करने की मांग की। इसके बाद उन दाेनाें की फाइल भी बंद हाे गई।

जिप के पूर्व नाजिर राकेश यादव के मामले में डीडीसी के मंतव्य का हो रहा है इंतजार
अब एक और कर्मी जिला परिषद के पूर्व नाजिर राकेश यादव ने भी पूर्व एडीएम मामले पर लिये गए निर्णय काे आधार बनाकर विभागीय जांच पदाधिकारी से कार्यवाही काे स्थगित करने की मांग की है। जांच पदाधिकारी ने पहले डीएम से मंतव्य मांगा था।

डीएम ने फाइल डीडीसी काे भेज दी। इसमें यह कहा गया कि चूंकि जिला परिषद के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी डीडीसी हाेते हैं, इसलिए इस मामले में ही वही अपना मंतव्य देंगे। अब जांच पदाधिकारी डीडीसी के मंतव्य का इंतजार कर रहे हैं। मामले में सुनवाई सात फरवरी काे हाेगी। संभावना है कि यह विभागीय कार्यवाही भी बंद हाे जाएगी।

सीबीआई से रिपाेर्ट आने के बाद ही डीआरडीए के पूर्व क्लर्क अरुण कुमार का मामला आगे बढ़ेगा
डीआरडीए के पूर्व क्लर्क अरुण कुमार पर भी सृजन घाेटाले में संलिप्तता सामने आई थी। इसके बाद उनके खिलाफ भी विभागीय कार्यवाही शुरू हुई। इस मामले की सुनवाई भी जिला लाेक शिकायत निवारण पदाधिकारी अरुण कुमार सिंह कर रहे हैं। लेकिन इसमें पूर्व क्लर्क अरुण कुमार ने अपना पक्ष रखने के लिए कागजात की मांग की है।

इसमें उन्हाेंने कहा है कि सीबीआई की ओर से अब तक की गई कार्रवाई की अपडेट रिपाेर्ट दी जाए, ताकि वे अपना पक्ष रख सकें। इसके बाद प्रस्तुतिकरण पदाधिकारी की ओर से सीबीआई से अपडेट रिपाेर्ट मांगी गई है, जब वहां से रिपाेर्ट मिल जाएगी, इसके बाद ही इस मामले में सुनवाई हाेने की स्थिति बनेगी। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि पूर्व क्लर्क अरुण कुमार के खिलाफ चल रही विभागीय कार्यवाही भी कहीं स्थगित न हाे जाए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: