Discussion cum Kavi Sammelan was organized on the topic of global nature of Hindi | हिंदी के वैश्विक स्वरूप विषय पर विमर्श सह कवि सम्मेलन का किया गया आयोजन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बक्सर16 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर गधपुरना पत्रिका एवं भोजपुरी साहित्य मंडल बक्सर के सांझा बैनर तले हिंदी के वैश्विक स्वरूप विषय पर एक विमर्श सह कवि सम्मेलन का आयोजन पीपी रोड स्थित शिवगोविद्यांत के परिसर में मंडल अध्यक्ष अनिल कुमार त्रिवेदी के सभापतितत्व में आयोजित की गई। विषय प्रवर्तन करते हुए साहित्यकार डॉ अरुण मोहन भैरवी ने बताया कि हिंदी सदा से ही सत्ता और सियासत के खिलाफ आमजन के साथ खड़ी रही है।

इसका नाम खड़ी बोली भी है। मुख्य अतिथि के रूप में दीप नारायण सिंह ने कहा कि हिंदी के विकास में भारतेंदु हरिश्चंद्र सहित महावीर प्रसाद द्विवेदी का अहम योगदान रहा है और इसे वैश्विक विस्तार देने में सिनेमा सहित बाजार का योगदान है। संचालन श्रीभगवान पांडेय ने किया सम्मेलन में शिव बहादुर पांडेय, प्रीतम महेश्वर ओझा, महेश, कुशध्वज सिंह, मुना, उमेश पाठक, रवि रामाकांत तिवारी, रामविलास मिश्र, दीप नारायण सिंह आदि थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: