Tempe and e-rickshaws with no permits will not enter the city from tomorrow, two places investigated | कल से शहर में नहीं घुसेंगे बिना परमिट वाले टेंपाे और ई-रिक्शा, दो जगह जांच

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भागलपुर15 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • विक्रमशिला सेतु और चंपा नाला पुल पर बनेंगे चेक प्वाइंट
  • ट्रैफिक पुलिस करेगी कागजात की जांच, आज ड्राइवरों को जागरूक करेगी, कल से फाइन

शहर काे जाम से निजात दिलाने के लिए फिर एक नई व्यवस्था बनी है। अब बिना परमिट वाले टेंपाे और ई-रिक्शा मंगलवार से शहर में प्रवेश नहीं करेंगे। इसके लिए चंपानाला पुल और विक्रमशिला सेतु पर दो चेक प्वाइंट बनाकर ट्रैफिक पुलिस इनके परमिट की जांच करेगी।

सोमवार को इनके ड्राइवरों को ट्रैफिक पुलिस जागरूक करेगी और मंगलवार से नियम के उल्लंघन पर फाइन वसूला जाएगा। एसएसपी निताशा गुड़िया ने बताया कि शहर में जाम लगने का एक प्रमुख कारण ऑटो और टोटो की सड़कों पर बढ़ती संख्या है। बिना परमिट वाली ये गाड़ियां शहर में जहां-तहां यात्रियों को लेकर आती-जाती हैं।

इससे अक्सर जाम की समस्या पैदा होती है। अब जिन ऑटो और टोटो का शहर में परमिट होगा, उन्हीं को दोनों चेक प्वाइंट से प्रवेश मिलेगा। बिना परमिट वालाें काे शहर में नहीं घुसने दिया जाएगा। यदि काेई इसका उल्लंघन करेंगे ताे मंगलवार से फाइन वसूला जाएगा। ऑटो और टोटो संघ के पदाधिकारियों को नियम की जानकारी दे दी है। उन्होंने भी ट्रैफिक पुलिस को सहयोग करने की बात कही है।

दोनों चेक प्वाइंट पर हाेगी माइकिंग, बैनर भी लगेंगे
एसएसपी ने बताया कि ऑटो और टोटो के परमिट की जांच के लिए बनाए गए दोनों चेक प्वाइंट पर ट्रैफिक पुलिस सोमवार से माइकिंग करेगी, ताकि ज्यादा से ज्यादा ड्राइवर को नए नियम की जानकारी हो। वहां ट्रैफिक पुलिस जागरूकता के लिए बैनर और होर्डिंग भी लगाएगी। उनपर नए नियम मोटे-मोट अक्षरों में लिखे रहेंगे। पुलिस के सोशल मीडिया ग्रुप भी इस नियम को प्रचारित करने का निर्देश ट्रैफिक डीएसपी व संबंधित थानेदारों को दिया है। इन दोनों चेक प्वाइंट पर प्रयोग के तौर पर इसे लागू किया जा रहा है।

फेज वाइज जाम से बचने के उपाय प्रभावी तरीके से होंगे लागू
एसएसपी ने बताया कि ट्रैफिक पुलिस के पास उपलब्ध संसाधन के अनुसार जाम से निजात दिलाने के उपायों को प्रभावी तरीके से लागू किया जाएगा। पहले फेज में परमिट की जांच शुरू हाेगी। दूसरे फेज में लाइसेंस, फिटनेस, रूट आदि की जांच की जाएगी।

यह होगा फायदा
शहर में जाम लगने का एक बड़ा कारण सड़कों पर ऑटो और टोटो की बढ़ती संख्या है। निर्धारित संख्या से ज्यादा ऑटो और टोटो सड़कों पर चलते हैं, जिससे जाम लगता है। अगर परमिट के हिसाब से चलेंगे तो जाम की समस्या से बहुत हद तक निजात मिल सकती है।

अभी यह है स्थिति
फिलहाल स्थिति यह है कि नवगछिया रेलवे स्टेशन से ऑटो भागलपुर रेलवे स्टेशन तक चलते है। जबकि उनका परमिट जीरोमाइल चौक तक ही है। जीरोमाइल चौक से लेकर स्टेशन तक दूसरे ऑटो का परमिट रहता है। उसी तरह से सुल्तानगंज से भागलपुर रेलवे स्टेशन तक ऑटो चलते हैं, जबकि उनका परमिट नाथनगर तक का ही है।

नाथनगर से भागलपुर रेलवे स्टेशन तक दूसरे ऑटो को परमिट है। लेकिन कभी भी परमिट के अनुसार ऑटो और टोटो का परिचालन नहीं होता है। परमिट और बिना परमिट वाले ऑटो और टोटो जब एक साथ शहर में प्रवेश करते हैं तो उनकी संख्या बढ़ जाती है और जाम लगना शुरू हो जाता है। कई रूटों में रोक के बाद भी टोटो चलते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: