Three killed including potato businessman Aslam of Bagaha in UP slum | यूपी के बस्ती में बगहा के आलू कारोबारी असलम समेत तीन की गला रेतकर हत्या

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बगहा16 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
असलम के घर के बाहर लगी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar

असलम के घर के बाहर लगी लोगों की भीड़।

  • बगहा में करते थे आलू का थोक व्यापार, कानपुर से ही आलू-प्याज की खेप लेकर आए थे

यूपी के बस्ती में बगहा के आलू-प्याज के थोक व्यवसायी सहित तीन लोगों का गला रेतकर हत्या का मामला प्रकाश में आया है । यूपी पुलिस ने रविवार को व्यवसायी की लाश बगहा भेजा है। कानपुर से आलू-प्याज की खेप लेकर आई ट्रक की वापसी के समय उसी ट्रक से खरीदारी करने कानपुर जाने के लिए बगहा के आलू – प्याज के थोक कारोबारी असलम राइन सवार हो गए थे।

यूपी में बस्ती के पास एनएच के किनारे असलम समेत ट्रक के ड्राइवर व खलासी की भी गला रेतकर अपराधियों ने शनिवार को हत्या कर दी। बगहा नगर के रत्नमाला मोहल्ला ( वार्ड नंबर 32 ) निवासी असलम राइन का शव यूपी प्रशासन ने पोस्टमार्टम के बाद रविवार को उनके घर भेजा। शव के यहां पहुंचते ही परिजनों के बीच चीख – पुकार मच चली।

देखते ही देखते उनके घर पर बड़ी संख्या में लोग जुट आए। ट्रक का चालक राजकुमार व खलासी सोनू मौर्या जिला उन्नाव के रहने वाले थे। इन दोनों की भी हत्या हो चुकी है। वहीं घटना के बाद से लोगों में आक्रोश है। उन्होंने यूपी पुलिस से बदमाशों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है।

परसौनी से ट्रक पर सवार हुए थे असलम

आलू व्यवसायी असलम राइन के ससुर अबरार अहमद ने बताया कि शुक्रवार को नमाज पढ़ने के बाद वे कानपुर जाने के लिए बगहा – 1 प्रखंड के परसौनी चले गए थे। कानपुर के मनोज कुमार की ट्रक आलू प्याज की ही खेप लेकर परसौनी आई थी। ट्रक को पुनः कानपुर वापस लौटना था। इसी ट्रक पर कानपुर जाने के लिए वे सवार हो गए थे।

लेकिन रास्ते में असलम समेत ट्रक के चालक तथा खलासी की निर्मम हत्या गला रेतकर कर दी गई। यूपी के पुलिस प्रशासन ने घटना के बाबत असलम के परिजनों को फोन से सूचित किया था। फोन पर मिली जानकारी का हवाला देते हुए अबरार अहमद ने बताया कि खलासी का शव सड़क के किनारे झाड़ी में पड़ा था, जबकि चालक व असलम के शव उससे कुछ दूरी पर ट्रक के केबिन में पड़े पाए गए।

वार्ड पार्षद बोले- किसी रंजिश या लूट के लिए हो सकती है वारदात

असलम के परिजन तो फिलहाल कुछ कह पाने की हालत में नहीं हैं। वे समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर इनकी इतनी नृशंस हत्या क्यों की गई। वार्ड पार्षद मो. रब्बानी ने बताया कि असलम कानपुर से आलू व प्याज की खेप हमेशा लाया करते थे और यहां खुदरा व्यापारियों को बेचते थे। उनके साथ कभी भी कोई घटना नहीं हुई थी। इस घटना से पूरा मोहल्ला आहत है।

असलम अपने पीछे दो पुत्र, एक पुत्री व पत्नी को छोड़ गए हैं। बड़ा पुत्र 14 वर्ष का है। हत्या के कारण के बाबत चर्चा करने पर वार्ड पार्षद ने कहा कि किसी के साथ पुरानी रंजिश या रुपये की लूट का मामला हो सकता है। उन्होंने कहा कि बिहार व यूपी सरकारों को बेहतर समन्वय के साथ इस तिहरे हत्याकांड की गुत्थी सुलझानी चाहिए। साथ ही मृतक के परिजनों को उचित मुआवजे के साथ न्याय दिलाने में सहयोग मिलना चाहिए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: