Schools closed once again amid growing corona virus cases, after Maharashtra- Punjab, now schools were closed in Gujarat | वायरस के बढ़ते मामलों के बीच एक बार फिर बंद हुए स्कूल, महाराष्ट्र- पंजाब के बाद अब गुजरात के स्कूलों में लगा ताला

  • Hindi News
  • Career
  • Schools Closed Once Again Amid Growing Corona Virus Cases, After Maharashtra Punjab, Now Schools Were Closed In Gujarat

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश में एक बार फिर कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। बीते कुछ महीनों में वायरस के मामलों में आई कमी के चलते कई राज्यों में स्‍कूल और कॉलेज दोबारा खुल गए थे। लेकिन अब वायरस के फिर से बढ़ते मामलों के बीच स्कूल वापस बंद होने लगे हैं। महाराष्‍ट्र और पंजाब के बाद अब गुजरात में भी स्‍कूलों में ताला लगना शुरू हो गया है।

सूरत के स्‍कूलों में 85 छात्र संक्रमित

सूरत के स्‍कूलों में स्टूडेंट्स में संक्रमण के मामले काफी बढ़ रहे हैं। इसके चलते राज्‍य सरकार तेजी से स्‍कूलों में कोरोना जांच कराने में जुटी है। अब तक 28 स्‍कूलों के 1613 बच्‍चों की जांच की जा चुकी है, जिसमें से 85 छात्र संक्रमित पाए गए हैं। ऐसे में जिन स्‍कूलों में 5 से ज्‍यादा बच्चे संक्रमित पाए गए हैं, उन्‍हें तुरंत बंद करने का आदेश दिया गया है। राज्‍य में रोजाना 700 से ज्‍यादा नए केस सामने आ रहे हैं।

पंजाब सरकार ने स्कूलों में लगाया ताला

पंजाब सरकार ने भी बीते शुक्रवार को आठ जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाते हुए सभी सरकारी और प्राइवेट स्‍कूलों में प्रिपरेटरी लीव घोषित कर दी। इस बारे में राज्‍य शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने कहा कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर बच्‍चों के लिए स्‍कूल बंद किए जा रहे हैं, लेकिन टीचर्स को स्‍कूल आना होगा। जो स्टूडेंट्स परीक्षा की तैयारी के लिए जरूरी मदद चाहते हैं, वे स्‍कूल आ सकते हैं।

सबसे पहले महाराष्ट्र में बंद हुए स्कूल

सबसे पहले महाराष्ट्र में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद मुंबई और पुणे के स्‍कूल बंद किए गए थे। इसके बाद अन्‍य राज्‍यों ने भी स्‍कूल खोलने का अपना फैसला वापस लेना शुरू कर दिया है। बीते कई महीनों में बोर्ड परीक्षाओं की तैयारियों के चलते स्‍कूल खोले जा रहे थे, लेकिन कोरोना के कारण स्‍कूलों में वापस ताले लगने शुरू हो गए हैं। देशभर में अप्रैल- मई में ऑफलाइन में बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जानी है। ऐसे में बढ़ते संक्रमण के बीच परीक्षाएं कराना सभी के लिए बड़ी चुनौती साबित होगी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

%d bloggers like this: